about ganesh chaturthi in hindi

गणेश चतुर्थी के बारे में हिंदी में – About Ganesh Chaturthi in Hindi

गणेश चतुर्थी के बारे में हिंदी में - About Ganesh Chaturthi in Hindi
गणेश चतुर्थी के बारे में हिंदी में

हेलो दोस्तों –

पहले तो आप सभी लोगो को गणेश चतुर्थी की बहुत – बहुत शुभकामनाएं। हिन्दू सभ्यता में कई देवी देवतायें हैं ! लेकिन भगवान् श्री गणेश उनमें बहुत ही माने जाते हैं ! श्री गणेश जी की कहानियाँ और उनके विषय में बच्चे को जानना बहुत पसंद करते हैं !

गणेश उत्सव पूरे भारत वर्ष में हर्षो उल्लास के साथ मनाया जाता है ! गणेश चतुर्थी से प्रारम्भ होकर यह उत्सव अनन्त चतुर्दशी तक भगवान् गणेश की प्रतिमा के विसर्जन तक मनाया जाता है !

हम गणेश चतुर्थी क्यों मनाते है, गणेश विसर्जन क्यों किया जाता है, गणेश महोत्सव क्यों मनाया जाता है? के बारे में आज के इसे आर्टिकल में हम जानेंगे।

गणेश चतुर्थी हिंदी में – Ganesh Chaturthi in Hindi

गणेश चतुर्थी को पुरे भारत देश में बड़ी धूम – धाम  उल्लास के साथ मनाया जाता है ! लेकिन क्या आप जानते है,की गणेशोत्सव मनाने की क्या परंपरा रही है !

और ये कैसे, कब से शुरू हुई ? गणेश उत्सव दस दिनों तक क्यों मनाया जाता है? यहाँ हम आपको गणेश उत्सव उत्सव की पूरी जानकारी बता रहे है?

गणेश उत्सव की शुरवात कहाँ से हुई ?

ganesh utsav की शुरूआत महाराष्ट्र से हुई थी ! गणेश चतुर्थी के दिन इसका आरंभ होता है ! और फिर 11वें दिन यानि अनंत चतुर्दशी को गणेश प्रतिमाओ के विसर्जन के साथ इसका समापन होता है ! चलिए अब आगे जानते है,

[1 ] महारष्ट्र राज्य के विकिपीडिया जाने हिन्दी में [2 ] गणेश चतुर्थी पर निबंध जाने हिंदी में [3 ] वेबसाइट से पैसे कैसे कमाये जाने हिंदी में [3 ] गणेश जी के 108 नाम व अर्थ क्या है जाने हिंदी में

Why Celebrate Ganesh Chaturthi in Hindi – गणेश चतुर्थी क्यों मनाई जाती है

गणेश चतुर्थी 2019, गणेश चतुर्थी इन हिंदी 2019 गणेश चतुर्थी क्यों मनाते हैं, गणेश चतुर्थी क्यों मनायी जाती है !  गणेश चतुर्थी की हिंदी जानकारी, गणेश चतुर्थी कब है?

Ganesh chaturthi 2019, ganesh chatuerthi in hindi, Ganesh chaturthi kyu manate hai, Ganesh Utsav in hindi, Ganesh chaturthi kyu celebrate kiya jata hai?

गणेश उत्सव क्यों मनाते है – Why Celebrate Ganesh Utsav in Hindi

श्रस्टि के आरम्भ में जब यह प्रश्न उठा की प्रथम पूज्य किसे माना जाय ! तो देवता भगवान् शिव के पास पहुंचे ! तब शिव जी ने कहा संपूर्ण पृथ्वी की परिक्रमा जो सबसे पहले कर लेगा ! उसे ही प्रथम पूज्य माना जायगा !

इस प्रकार सभी देवता अपने-अपने वाहन में बैठ कर पृथ्वी की परिक्रमा करने निकल पड़े।चुकी गणेश भगवान् का वाहन चूहा है ! और उनका शरीर स्थूल है ! तो भगवान् गणेश कैसे परिक्रमा कर पाते !

तब भगवान् गणेश जी ने अपनी बुद्धि और चतुराई से ! अपने पिता भगवान् शिवऔर माता पार्वती की तीन परिक्रमा पूरी की और हाथ जोड़ कर खड़े हो गए !

तब भगवान् शिव ने कहा की तुमसे बड़ा और बुद्धिमान इस पूरे संसार में और कोई नहीं है ! माता और पिता की तीन परिक्रमा करने से तुमने तीनो लोको की परिक्रमा पूरी कर ली है ! और इसका पुण्य तुम्हे मिल गया जो पृथ्वी की परिक्रमा से भी बड़ा है।

इसलिए जो मनुष्य किसी भी कार्य को आरम्भ करने से पहले तुम्हारा पूजन करेगा ! उसे किसी भी प्रकार की कठनाईयो का सामना नहीं करना पड़ेगा।

बस तभी से भगवान् गणेश अग्र पूज्य हो गये ! और उनकी पूजा सभी देवी और देवताओ से पहले की जाने लगी ! और फिर भगवान् गणेश की पूजा के बाद बाकी सभी देवताओ की पूजा की जाती है।

इसलिए गणेश चतुर्थी में गणेश भगवान् की पूजा की जाती है ! गणेश चतुर्थी को मनाने वाले सभी श्रद्धालु ! इस दिन स्थापित की गयी भगवान् गणेश की प्रतिमा को ग्यारहवे दिन अनन्त चतुर्दशी के दिन विसर्जित करते है ! और इस प्रकार गणेश उत्सव का समापन किया जाता है।

गणेश उत्सव 10 दिनों तक क्यों मनाते है !Why Celebrate Ganesh Festival for 10 Days in Hindi

गणेश उत्सव 2019, गणेश उत्सव इन हिंदी, गणेश जी की पूजा 10 दिनों तक क्यों की जाती है ! गणेश उत्सव दस दिनों तक क्यों मनाया जाता है गणेश उत्सव मानाने की परम्परा क्या है, गणेश उत्सव कब से मनाते है, आखिर क्यों मनाया जाता है गणेश उत्सव।

Ganesh Utsav 2019, Ganesh Utsav in hindi, Ganesh Utsav 10 dino tak kyu manaya jata hai, Ganesh Utsav manae ki wajah, Ganesh Utsav kab hai, Ganesh Utsav kis karan se manate hai, Ganesh Utsav ki puri jankari hindi me.

Why Ganesh Chaturthi is celebrated for 10 days in Hindi

धार्मिक ग्रंथो के अनुशार जब वेदव्यास जी ने महाभारत की कथा भगवन गणेश जी को दश दिनों तक सुनाई थी ! तब उन्होंने अपने नेत्र बंद कर लिए थे ! और जब दस दिन बाद आँखे खोली तो पाया की भगवान् गणेश जी का तापमान बहुत अधिक हो गया था।

फिर उसी समय वेदव्यास जी निकट स्थित कुंड में स्नान करवाया था ! जिससे उनके शरीर का तापमान कम हुआ ! इसलिए गणपति स्थापना के अगले दस दिन तक गणेश जी की पूजा की जाती है ! और फिर ग्यारहवे भगवान् गणेश जी की प्रतिमा का विसर्जन कर दिया जाता है।

गणेश विसर्जन इस बात का भी प्रतीक है ! की यह शरीर मिटटी का बना है.और अंत में मिटटी में ही मिल जाना है।

अब जानते है की गणेश उत्सव कबसे मनाया जाता है ! यह उत्सव वैसे तो कई वर्षो से मनाया जा रहा है ! लेकिन संन 1893 से पूर्व यह केवल घरो तक ही सीमित था ! उस समय सामूहिक उत्सव नहीं मनाया जाता था ! और न ही बड़े पैमानों पर पंडालों में इस तरह मनाया जाता था।

” सन 1893 में बाल गंगा धर तिलक ने ! अंग्रजो के विरुद्ध एक जुट करने के लिए एक पैमाने पर इस उत्सव का आयोजन किया ! जिसमे बड़े पैमाने पर लोगो ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया ! और इस प्रकार पूरे राष्ट्र में गणेश चतुर्थी मनाया जाने लगा। “

लेखक – रोशन

बालगंगाधर तिलक ने यह आयोजन महाराष्ट्र में किया था ! इसलिए यह पर्व पूरे महाराष्ट्र में बढ़ चढ़ कर मनाया जाने लगा !तिलक उस समय स्वराज्य के लिए संघर्ष कर रहे थे !

और उन्हें एक ऐसा मंच चाहिए था जिसमे माध्यम से उनकी आवाज अधिक से अधिक लोगो तक पहुंचे ! और तब उन्होंने गणपति उत्सव का चयन किया और इसे एक भव्य रूप दिया ! जिसकी छवि आज तक पूरे महाराष्ट्र में देखने को मिलता है।

दोस्तों आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बहुत – बहुत धन्यवाद ! यदि आपको भी इस पर्व के बारे में कुछ जानकारी है ! तो कृपया हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताय !

और यदि आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो ! इसे अपने फॅमिली मेंबर तथा सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे ! जिससे उन्हें भी कुछ गणेश चतुर्थी से संबंधित जानकारी प्राप्त हो !

गणेश चतुर्थी शायरी हिंदी में – Ganesh Chaturthi Hindi Shayari 2019

Shree Ganesh Shayari in Hindi, Happy Ganesh Chaturthi Shayari 2019, Ganpati Bappa Shayari in Hindi, Ganesh Chaturthi Shayari, Poems, Quotes, SMS, Image, WhatsApp Status, mesaage, puja shayari hindi me.

[1 ] गणेश जी का रूप निराला है, चेहरा भी कितना भोला-भाला है, जिसे भी आती है कोई मुसीबत,उसे इन्ही ने तो संभाला है।

[2 ] भगवान् श्री गणेश की कृपा आप पर बनी रहे, हर दम हर काम में मिले सफलता, कभी ना आये जीवन में कोई गम।

[3 ] नए कार्य की शुरूआत अच्छी हो, हर मनोकामना सच्ची हो, गणेश जी का मन में वास रहे, इस गणेश चतुर्थी आप अपने के पास रहे।

[ 4 ] भगवान् गणेश का अर्थ)

  • G – Get (जाओ)
  • A – Always (हमेशा)
  • N – New (नया)
  • E – Energy (ऊर्जा)
  • S – Spirit (आत्मा)
  • H – Happiness (खुशी)
  • A – At All Times (हर समय)

[ 5 ] फूलों की शुरूआत कली से होती है, जिंदगी की शुरूआत प्यार से होती है, प्यार की शुरूआत अपनों से होती है, और अपनों की शुरूआत आप से होती है।

[ 6 ] पल पल से बनता है एहसास, एहसास से बनता है विश्वास, विश्वास से बनते है रिश्ते, और रिश्तों से बनता है कोई खास, मुबारक हो ये गणेश चतुर्थी झकास।

[ 7 ] भगवान् गणेश आपको हर तूफान के लिए इन्द्रधनुष दे, हर आंसू के लिए एक मुस्कान दे, हर देखभाल के लिए एक वादा और हर दुआ का शवाब।

[ 8 ] जब भी आते है खुशियाँ दे जाते है, जब आते है आशीर्वाद का तोहफा लाते है, जब आते है सफलता का मार्ग दिखाते है, ऐसे देवों देव को प्रणाम।

इसे भी पढ़े –

[1 ] गणेश जी की चार कहानियाँ जाने हिंदी में [2 ] जानिए, कहां से आया’ है गणपति बप्पा मोरिया का शब्द हिंदी में [3 ] गणेश चतुर्थी की कथा और व्रत के बारे में जाने हिंदी [4 ] हालि में सोशल मीडिया पर फेमस होने वाली रानू मंडल सक्सेस स्टोरी के बारे में जाने हिंदी में

जरुरी जानकरी – अगर आप हमारी website के लिए कुछ लिखना चाहते है ! तो आप लिख सकते है. पेड तथा फ्री दोनों में उपलब्ध है ! नीचे लिंक आपको मिल जायेगा। और हमे subscribe करना न भूले !

लिंक

– – – – थैंक्स फॉर रीडिंग – – – –

You may also like...

1 Response

Leave a Reply